SEO

हैंडहेल्ड रेट्रो गेम कंसोल फोन

网站宗旨
दिल्ली मेट्रो फिर से 7 सितंबर से दौड़ेगी पटरी परनरम टिप डार्ट बोर्ड की स्थापना की, लेकिन यात्र
  • नरम टिप डार्ट बोर्ड की स्थापना की Delhi Metro in Hindi: दिल्ली मेट्रो की सेवाएं 7 सितंबर से

    发布时间:2020-09-17   分类:नरम टिप डार्ट बोर्ड की स्थापना
    Delhi metro services start from 7 september दिल्ली मेट्रो फिर से 7 सितंबर से दौड़ेगी पटरी परनरम टिप डार्ट बोर्ड की स्थापना की, लेकिन यात्रियों को ध्यान में रखनी होंगी ये जरूरी बातें।

    Delhi Metro Safety Guidelines: दिल्ली मेट्रो सेवा फिर से बहाल होने वाली है। पिछले पांच महीनों से (22 मार्च) से ही दिल्ली की मेट्रो (Delhi Metro Services) सेवाएं कोरोनावायरस (Coronavirus in delhi) के कारण बंद हैं। लेकिननरम टिप डार्ट बोर्ड की स्थापना की, अच्छी खबर यह है कि अब दिल्ली मेट्रो 7 सितंबर (Delhi Metro services resume from 7 September) से फिर से पटरियों पर दौड़ने लगेगी। इसे लेकर लगभग सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। Also Read - कोरोना के शिकार हुए नितिन गडकरीनरम टिप डार्ट बोर्ड की स्थापना की, ट्विटर पर लोगों से कही ये बातें

    हालांकिनरम टिप डार्ट बोर्ड की स्थापना की, मेट्रो से सफर करने वाले यात्रियों के लिए मुश्किलें थोड़ी बढ़ सकती हैंनरम टिप डार्ट बोर्ड की स्थापना की, क्योंकि कई नियमों को उन्हें सख्ती से फॉलो भी करना होगा। मेट्रो (Delhi Metro in Hindi) में सफर करना पहले की तरह उतना आसान नहीं होगा। यात्रियों को मेट्रो में नियमों का पालन करना होगा। यदि कोई यात्री ऐसा नहीं करता है, पिनबॉल इलेक्ट्रॉनिक्स तो उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। कंटेटमेंट जोन के अलावा अगर यात्री किसी स्टेशन पर सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing at metro station) का पालन नहीं करते हैं, तो उन स्टेशनों पर भी मेट्रो नहीं रोकी जाएगी। Also Read - भारत की डॉ. रेड्डीज़ लैब को मिलेगी कोविड-19 वैक्सीन 'स्पुतनिक' की 10 करोड़ खुराकें, कम्पनी देश में उपलब्ध कराएगी ये टीके

    यात्रियों के लिए दिल्ली मेट्रो सेफ्टी गाइडलाइंस और नियम 1 तीस एमएल से अधिक मात्रा में हैंड सेनिटाइजर की अनुमति नहीं 

    यात्रियों को मेट्रो में सफर करने से पहले हर स्टेशन के एंट्री प्वाइंट पर थर्मल स्क्रीनिंग और सैनिटाइजेशन से गुजरना होगा। वहीं यात्री अपने साथ सिर्फ 30 एमएल की पॉकेट साइज हैंड सैनिटाइजर बॉटल ही रख सकेंगे। यदि 30 एमएल से अधिक मात्रा में हैंड सेनिटाइजर रखकर कोई यात्री सफर करने की कोशिश करता है, तो उसे अनुमति नहीं दी जाएगी। Also Read - दुनियाभर में केवल 10 प्रतिशत युवाओं को ही हुआ कोविड संक्रमण, WHO ने बताया 20 वर्ष से कम उम्र वाले महामारी से अब तक सुरक्षित

    2 ऑटो सैनिटाइजर डिस्पेंसर्स की सुविधा

    45 प्रमुख स्टेशनों पर ‘ऑटो थर्मल के साथ हैंड सैनिटाइजेशन मशीनों’ की व्यवस्था की गई है। बाकी मेट्रो स्टेशंस पर ‘ऑटो सैनिटाइजर डिस्पेंसर्स’ लगे होंगे। इसके अलावा थर्मल स्क्रीनिंग मैनुअली की जाएगी।

    3 कोविड-19 लक्षण दिखने पर नहीं मिलेगी यात्रा की इजाजत

    जिन यात्रियों में कोविड के लक्षण (Symptoms of coronavirus in hindi) दिखाई देंगे,नरम टिप डार्ट बोर्ड की स्थापना की उन्हें मेट्रो में यात्रा की अनुमति नहीं दी जाएगी। मेट्रो (Delhi Metro in Hindi) के स्टेशन में दाखिल होते ही आपके बैग को भी सैनिटाइज करने का इंतजाम किया गया है। वहीं मास्क लगाना सभी यात्रियों के लिए अनिवार्य होगा। ऐसा नहीं करते हैं, तो उस यात्री पर कार्रवाई की जाएगी।

    4 तापमान की भी होगी जांच

    ‘ऑटो थर्मल स्क्रीनिंग कम हैंड सैनिटाइजेशन मशीन’ पैसेंजर के सामने आते ही तापमान नाप लेगी। अगर शरीर का तापमान ज्यादा हुआ, तो यात्री को मेट्रो में सवार होने नहीं दिया जाएगा। उसे नजदीकी मेडिकल सेंटर जाने को कहा जाएगा। मेट्रो (Delhi Metro in Hindi) स्टेशंस पर लिफ्ट के पास एक ‘पैडल स्विच’ लगाया गया है। यात्री को लिफ्ट बुलाने के लिए बस पैर से इस बटन को दबाना होगा।

    5 एक मीटर की दूरी बनाकर रखनी होगी

    यात्रियों को एक-दूसरे से हमेशा 1 मीटर की दूरी बनाए रखनी होगी। फ्रिस्किंग पॉइंट्स, कस्टमर केयर, एएफसी गेट्स समेत सभी जगहों पर निशान बनाए गए हैं, ताकि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो सके। मेट्रो परिसर को एक निर्धारित समय सीमा पर सैनिटाइज किया जाता रहेगा और अधिकतर उन चीजों को किया जाएगा जो कि इंसानों के सबसे ज्यादा संपर्क में आएगी। जैसे लिफ्ट, एस्केलेटर की हैंड रेट्स, एएफसी गेट्स के टच प्वॉइंट्स हों या कस्टमर हैंडलिंग प्वॉइंट्स।

    दिल्ली मेट्रो सेवाएं 7 सितंबर से चरणबद्ध तरीके से होंगी शुरू, जानें मेट्रो की सवारी के लिए जारी किए गए सेफ्टी प्रोटोकॉल

    Published : September 5, 2020 12:56 pm | Updated:September 5, 2020 11:35 pm Read Disclaimer Comments - Join the Discussion डायबिटीज की तरह ही इस रोग के मरीजों को भी है कोरोना का अधिक खतराडायबिटीज की तरह ही इस रोग के मरीजों को भी है कोरोना का अधिक खतरा डायबिटीज की तरह ही इस रोग के मरीजों को भी है कोरोना का अधिक खतरा अमेरिकी सीडीसी ने कहा, सभी राज्य कोविड-19 वैक्सीन के वितरण के लिए 1 नवंबर से रहें तैयारअमेरिकी सीडीसी ने कहा, सभी राज्य कोविड-19 वैक्सीन के वितरण के लिए 1 नवंबर से रहें तैयार अमेरिकी सीडीसी ने कहा, सभी राज्य कोविड-19 वैक्सीन के वितरण के लिए 1 नवंबर से रहें तैयार ,,